गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival

Goa Boat-Festival

गोवा नाव उत्सव, विठ्ठलपुर गांव, गोवा

अपने मस्त-मौला अंदाज के लिए पहचाने जाने वाले गोवा में त्रिपुरारी पूर्णिमा को भी खास अंदाज में मनाया जाता है। यही वजह है कि त्रिपुरारी पूर्णिमा के दिन गोवा में होने वाला नाव उत्सव धीरे-धीरे पर्यटकों के बीच अपनी पहचान बनाने लगा है। इस दिन गोवा के विठ्ठलपुर गांव में वलवंती नदी के किनारे इसका आयोजन किया जाता है। इस साल यह नाव उत्सव 14 नवबंर को मनाया जाएगा।

यह काफी असामान्य उत्सव जगह दीवाली त्योहार के मौसम के अंत चिह्नित करने के लिए ले जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार भगवान कृष्ण को हराया और कार्तिक पूर्णिमा के दिन पर दानव त्रिपुर को मार डाला।

लोग कृष्णा की जीत और नदी में दीपक को रिहा द्वारा राक्षस का अत्याचार के अंत में मनाया जाता है। तब से यह पूरे भारत में एक परंपरा दीवाली और विशेष रूप से कार्तिक पूर्णिमा के समय के दौरान नदी में छोटे दीपक जारी करने के लिए किया गया है।

सँकेलिम में इस त्योहार की परंपरा एक बहुत ही असामान्य प्रतियोगिता का रूप ले लेता है – लघु मॉडल नावों और थर्मोकोल और अन्य सामग्री से बाहर कर दिया जहाजों बनाने का है।

हालांकि सँकेलिम भी इस त्योहार के दौरान नदी में दीपक को रिहा करने की परंपरा रही है, जहाज निर्माण प्रतियोगिता से अधिक वर्षों के सभी गोवा भर से दर्शकों और प्रतिभागियों की एक बड़ी संख्या ड्राइंग महोत्सव समारोह का मुख्य आकर्षण बन गया है।

उत्सव पुंडलिक मंदिर के पास सँकेलिम में विठलपुर में जगह ले। नदी वाळवंटी पास यह नाव प्रतियोगिता के लिए एक आदर्श स्थान बनाने बहती है। समारोह शाम को शुरू के रूप में भगवान विट्ठल की पालकी जप के बीच और पारंपरिक संगीत की संगत नदी के तट पर रखा जाना करने के लिए लाया जाता है, जहां यह नाव प्रतियोगिता के अंत तक रहता है।

मुख्य नाव प्रतियोगिता के अलावा, वहाँ अच्छी तरह से ज्ञात कलाकारों द्वारा गीत सहित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की मेजबानी कर रहे हैं, विभिन्न गोवा के पारंपरिक लोक के प्रदर्शन ऐसे गौफ, ढालो , तोयमेल , वीरभद्र , समय नृत्य आदि के रूप में नृत्य प्रतियोगिता प्रतियोगियों नावों लाया जाता है के रूप में प्रगति और तट के पास प्रदर्शन किया।

नावों सभी आकृति और आकार में आते हैं। कुछ वास्तविक जहाजों के लघु प्रतिकृतियां, जबकि दूसरों को सरल पारंपरिक शिल्प कर रहे हैं। सबसे रंगीन कागजात के साथ सजाया जाता है और यहां तक कि छोटे रोशनी के लिए उन्हें अंदर फिट किया है।

लघु नौकाओं के सभी रोशन तटरेखा के साथ आगे बढ़ के शानदार तमाशा भारी भीड़ है कि हर साल बटोरता समारोह में हिस्सा लेने के लिए एक दृश्य का इलाज है। पूरे विठलपुर क्षेत्र एक ठेठ गोवा जात्रा उत्सव का माहौल है। भव्य समापन समारोह के रूप में वहाँ एक शानदार आतिशबाजी का प्रदर्शन है। विठलपुर दीपावली उत्सव समिति – सर्वश्रेष्ठ डिजाइन नौकाओं के लिए त्योहार पुरस्कार पुरस्कार के आयोजकों।

गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival 1

गोवा संस्कृति कार्यक्रम

गोवा नाव उत्सव एक नई ऊर्जा की अनिभूति कराती है | यहाँ का पाराम्परिक अंदाज लोक जीवन स्थानीय संस्कृति की अनूठी झलक और नदी में उतरी रंगबिंरगी नावें बेहद खूबसूरत दिखाई देती हैं | गोवा नाव वार्षिक उत्सव धीरे धीरे लोगो में अपनी और आकर्षित कर रही है | गोवा नाव उत्सव को हर साल 14 नवबंर को मनाया जाएगा | यहाँ की प्रकृति का लुत्फ़ उठाने के लोगो बस एक बहन चाहिए | समुद्र की लहेरे ऐसे मौज मारती है, जैसे आप पूरी तरह अपने आगोश में ले जाना चाहती है | जो कुली फिजाओ में मनमोहक जो दिल के छुपी मस्ती की लुत्फ़ उठाने आ जाते है | गोवा नाव उत्सव गोवा में त्रिपुरारी पूर्णिमा के खास मौके पर मनाया जाता है। यही वजह है कि त्रिपुरारी पूर्णिमा के दिन गोवा में होने वाला नाव उत्सव धीरे-धीरे पर्यटकों के बीच अपनी पहचान बनाने लगा है। इस दिन गोवा के विठ्ठलपुर गांव में वलवंती नदी के किनारे इसका आयोजन किया जाता है।गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival 2

संस्कृति कार्यक्रम

समुद्र, नदियां और नावें गोवा के जनजीवन के हेर पहलु से जुड़े हैं। लोक जीवन या संस्कृति कार्यक्रम जो यहाँ के जीवन परिवेश की गाता गति है | यह पारंपरिक जुडाव साफ दिखाई देता है। यही कारण है कि त्रिपुरारी पूर्णिमा के दिन नाव उत्सव मनाया जाता है। यह एक नाव बनाने की प्रतियोगिता होती है, जिसमें थर्मोकोल या कार्डबोर्ड से छोटे-छोटे खूबसूरत जहाज या नावें बनाई जाती हैं। बिल्कुल बडे जहाजों की तरह दिखाने देने वाले इन छोटे जहाजों को बड़ी मेहनत से तैयार किया जाता है। जहाजों को रंगबिरंगों कागजों से सजाया जाता है। आजकल इन जहाजों पर रोशनी का इंतजाम भी किया जाता है। रोशनी से जगमगाते रंगबिरंगे जहाज अनोखा समा बांध देते हैं। पूरे गोवा से लोग इस नाव प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए जुटते हैं। प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले लोगों की संख्या 1000 तक पहुंच जाती है। आखिर में सबसे खूबसूरत नाव को पुरूस्कार भी दिए जाते हैं।गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival 3

भगवान कृष्ण की डोली

उत्सव की शुरूआत शाम के समय भगवान कृष्ण की डोली को गाजे-बाजे के साथ नदी के किनारे लाए जाने से होती है। प्रतियोगिता के खत्म होने तक भगवान की डोली वहीं रहती है। इस दौरान पारम्परिक नाच गाने का दौर चलता है। उसके बाद नदी में जलते दीए प्रवाहित किए जाते हैं। पूरी नदी दीओं से जगमगाती है उस बीच जोर शोर के साथ नावें नदी के पानी में उतारी जाती हैं। नदी में उतरी रंगबिंरगी नावें बेहद खूबसूरत दिखाई देती हैं। धीरे – धीरे यह उत्सव इतना लोकप्रिय हो गया है कि इसे देखने बड़ी संख्या में पर्यटक भी जुटने लगे हैं। गोवा पर्यटन विभाग की तरफ से इस यात्रा को दिखाने के लिए विशेष टूर आयोजित किए जाते हैं।गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival 4

गोवा की स्थानीय संस्कृति की अनूठी झलक

गोवा की स्थानीय संस्कृति की अनूठी झलक
गोवा की स्थानीय संस्कृति की अनूठी झलक इस उत्सव के दौरान देखने को मिलती है। नाव प्रतियोगिता के साथ तरह के पारम्परिक संगीत और नृत्यों का प्रदर्शन होता है। पूरे विठ्ठलपुर गांव को रंगबिरंगी रोशनियों से सजाया जाता है। देर रात को आतिशबाजी का कार्यक्रम भी होता है ।
हिन्दु मान्यता के अनुसार त्रिपुरारी पूर्णिमा या कार्तिक पूर्णिमा को ब���हद पवित्र माना जाता है। इस दिन देश भर में मेलों और उत्सवों का आयोजन होता है। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक राक्षस का वध किया था।

तो अगर आप गोवा की अनूठी और मस्त मौला जिंदगी की एक झलक देखना चाहते हैं, वहां के स्थानीय जन-जीवन से रूबरू होना चाहते हैं तो एक बार गोवा के नाव उत्सव में जरूर शामिल हों।

गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival 5Tripurari Purnima Goa Boat festival

Goa Tourism in association with Art and Culture division is altogether arranged to observe Tripurari Purnima Boat celebration on the banks of stream Valvanti at Vithalapur town, Sanquelim Goa. This bubbly festival will stamp the end of Diwali in Goa. The celebration will happen on November 17 at Sanquelim town, Goa.

Tripurari Purnima is the full moon day amid the Karthik month, as per the conventional Hindu schedule. The pontoon challenge that happens amid this time is one of the fundamental highlights of the celebration and draws countless and members from all over Goa. Diyas or lights are set in the water before the pontoons enter. The watercraft is smaller than normal imitations of real ships while others are conventional artworks for the most part made of thermal and cardboard. This colorfully lit up scene frames and a visual treat for the extensive numbers assembled.

The festivities will happen at Vithalapur in Sanquelim, close to the Pundalik Temple. The stream Valvanti which streams close-by makes it a perfect spot for the watercraft rivalry. The festivals begin at night as the palanquin of Lord Vithal is brought, in the midst of droning and backup of traditional music, to be set on the banks of the stream where it stays until the end of the boat competition.

Aside from the boat competition, there is a large group of cultural programmed which includes songs by surely understood Goan artistes and exhibitions of different traditional folk dances, for example, Goff, Dhalo, Tony Kamel, Veerbhadra, Samai move and so forth. As the competition progresses the contender’s boats are brought and displayed near the shore.

गोवा नाव उत्सव Goa Boat-Festival 6Boat festival Goa

The whole Vithalapur village is flawlessly lit-up and has the ambiance of a typical Goan Zatra festivity. The amazing finale has a breathtaking presentation of fireworks on a full moon night. The organizers of the Tripurari Purnima festival award prizes to the best-designed boats.

Fun Filled at Goa Konkan’s most popular tourist destination, Book Goa tour packages and luxury hotels in Goa for an amazing experience, its leading travel agents in India and we provide domestic and international holiday packages at the lowest price.

Leave a Comment

Your email address will not be published. All fields are required.